S*X के दौरान मर्दों को होता है ‘HEART ATTACK’ का खतरा, पूढ़ें पूरा आर्टिकल

Health
loading...

सेक्स लाइफ को लेकर आप रोज कोई ना कोई नई खबर जरुर पढ़ते होंगे। कई रिसर्चर अपनी रिसर्च में सेक्स के फायदे और नुकसान के बारे में बताते हैं। कई बार तो ऐसी बातें भी सामने आती हैं जिसकी कभी किसी ने उम्मीद भी नहीं की होती। अब सेक्स को लेकर एक और नया तथ्य सामने आया है जिसका किसी को अंदाजा भी नहीं होगा। आपको बता दें कि भारतीय मूल के शोधकर्ता की अगुवाई वाले दल को एक स्टडी में पता चला है कि कार्डियोवस्कुलर रोग के शिकार रहे पुरुषों को सेक्स के दौरान या फिर सेक्स के बाद अचानक कार्डिएक अरेस्ट (हार्ट अटैक) होने का खतरा हो सकता है। अचानक कार्डिएक अरेस्ट (एससीए) में दिल धड़कना बंद कर देता है और ऐसा बिना किसी चेतावनी के होता है। हमारे आज के आर्टिकल में हम आपको इसी के बारे में पूरी जानकारी देने जा रहे हैं।

Loading...

1. बचने के चांस होते हैं कम

आपको बता दें कि इस शोध के निष्कर्षों से इस बात का खुलासा हुआ है कि एससीए की घटनाएं काफी कम लोगों में देखने को मिलती हैं, लेकिन जिस भी पुरुष को ऐसा कुछ होता है उसके बचने के चांस लगभग ना के बराबर होते हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि इसका अटैक अचानक से पड़ता है और धड़कनों को रोक देता है। ऐसे में किसी भी तरह का इलाज कर पाने का मौका भी काफी कम मिल पाता है।

Loading...

2. नहीं मिलता सीपीआर का वक्त

loading...

शोधकर्ताओं ने इस बात का भी खुलासा किया है कि इस तरह के अटैक से पीड़ित व्यक्ति के पास कोई भी दूसरा व्यक्ति एकदम से उसे सीपीआर (फुफुसीय पुर्नजीवन) दे पाने में नाकाम रहता है। आपको बता दें कि अटैक के वक्त सीपीआर देकर सामने वाले की जान बचाई जा सकती है लेकिन इस तरह के केस में ऐसा मुमकिन नहीं होता है।

3. सेक्स के दौरान मौत

सेडर्स-सिनाई हार्ट इंस्टीट्यूट के एसोसिएट निदेशक सुमीत चुघ ने इस बारे में कहा है कि, ‘यहां तक कि सेक्स एक्टिविटी के दौरान अचानक से हार्ट अटैक आने पर व्यक्ति का पार्टनर भी सीपीआर नहीं देता है, अब तक सिर्फ एक तिहाई मामलों में ही सीपीआर देने की जानकारी सामने आई है।’ आपको बता दें कि ये रिसर्च जर्नल ऑफ अमेरिकन कॉलेज ऑफ कॉर्डियोलॉजी में पब्लिश हुई है।

4. सेक्स के दौरान एल्कोहल से खतरा

शोधकर्ताओं ने इस बात का भी खुलासा किया है कि एससीए के कुछ मामलों में यौन गतिविधियों के बाद या फिर पहले कोई अधिक उत्तेजना वाली दवाई या फिर अल्कोहल का प्रयोग भी अहम भूमिका हो सकती है। इन सभी चीजों से एससीए का खतरा और भी ज्याद बढ़ जाता है। सुमित चुग ने ये भी कहा है कि, ‘शोध के निष्कर्षो से हमें ये भी पता चला है कि लोगों को एससीए के दौरान सीपीआर देने के लिए शिक्षित करने की बेहद जरूरत है।’

loading...

Leave a Reply